contact@ijirct.org      

 

Publication Number

1806008

 

Page Numbers

139-153

Paper Details

महाभारत में भारतीय संस्कृति – एक पुस्तक समीक्षा

Authors

Dr. Rachana Srivastava

Abstract

डॉक्टर सुजाता कुमारी व्याख्याता विनोबा भावे विश्वविद्यालय हजारीबाग द्वारा लिखित एवं संजय प्रकाशन दिल्ली द्वारा ‘महाभारत में भारतीय संस्कृति’ (वनपर्व के संदर्भ में) शीर्षक पुस्तक में महाभारत के तृतीय पर्व के संबंध में समीक्षात्मक अध्ययन आठ अध्याय में प्रस्तुत किया गया है। इस पुस्तक मे संस्कृति, व्यास, वर्णाश्रम व्यवस्था, आश्रम व्यवस्था, शासन व्यवस्था, सैन्य व्यवस्था, पारिवारिक, सामाजिक एवं आर्थिक स्थिति, संस्कार, रहन-सहन, रीति, प्रथा, राजनीत एवं न्याय प्रणाली, शस्त्रास्त्र, पुरुषार्थ, शिक्षा, धर्म, दर्शन, नैतिक मूल्य और सदाचार उपशीर्षको के अंतर्गत विस्तृत विवेचन करते हुए महाभारत के तृतीय पर्व वनपर्व के संदर्भ में टिप्पणी अंकित की गई है। इस समय प्रचलित महाभारत को महाकाव्य, इतिहास और पंचम वेद की श्रेणी में कैसे और क्यों रखा गया है और आज की कसौटी में वह खरी उतरती है या नहीं, इसका विश्लेषण किया गया है। शीर्षको एवं उपशीर्षको में विषय वस्तु को विभाजित किए जाने से सुगम्यता एवम स्पष्टता रहती है और पाठकों को विषय वस्तु को समझने में सुविधा होती है इससे तथ्यो के आकलन करने का सम्यक ज्ञान प्राप्त होता है। इस पुस्तक में वनपर्व में हुई घटनाओं के आधार पर प्रत्येक उपशीर्षक वार निष्कर्ष निकाला गया है जो रचनाकार की सोच को प्रदर्शित करता है।

Keywords

महाभारत, भारतीय संस्कृति, वर्णाश्रम व्यवस्था, धर्म, वैदिक काल

 

. . .

Citation

महाभारत में भारतीय संस्कृति – एक पुस्तक समीक्षा. Dr. Rachana Srivastava. 2018. IJIRCT, Volume 4, Issue 6. Pages 139-153. https://www.ijirct.org/viewPaper.php?paperId=1806008

Download/View Paper

 

Download/View Count

123

 

Share This Article