contact@ijirct.org      

 

Publication Number

1901005

 

Page Numbers

16-17

Paper Details

राजस्थान में यूनानी आक्रमण

Authors

डॉ. बलवीर चौधरी

Abstract

ईसा पूर्व दूसरी शताब्दी के अंतिम वर्षों में भारत की राजनीतिक अवस्था में कई महत्वपूर्ण परिवर्तन हुए। उस समय मौर्य साम्राज्य का विघटन प्रारंभ हो चुका था और उत्तरी पश्चिमी सीमान्त पर यूनानियों के आक्रमण हो रहे थे। धार्मिक दृष्टि से भी यह ब्राह्मण धर्म का उत्थान का युग था। इस आन्दोलन का नेता पुष्यमित्र शुंग था, जिसने अंतिम मौर्य नरेश वृहद्रथ की हत्या करके मगध के राजसिंहासन पर अधिकार कर लिया था। पुष्यमित्र शुंग संभवतः 187 ई.पू. मगध के राजसिंहासन पर बैठा तथा 151 ई.पू. तक शासन करता रहा।
पुष्यमित्र के शासनकाल में यूनानी राजाओ का भारत पर महत्वपूर्ण आक्रमण हुआ। संभवतः इसी आक्रमण का विवरण पतजंलि के महाभाष्य में मिलता है। महाभाष्य के अनुसार यवनों ने मध्यमिका (राजस्थान में चित्तौड़ के समीप नगरी नामक स्थल) तथा साकेत (अवध) को घेर लिया था। राजस्थान के इतिहास की दृष्टि से भी पतजंलि के महाभाष्य का उयह उल्लेख महत्वपूर्ण है।

Keywords

-

 

. . .

Citation

राजस्थान में यूनानी आक्रमण. डॉ. बलवीर चौधरी. 2019. IJIRCT, Volume 5, Issue 1. Pages 16-17. https://www.ijirct.org/viewPaper.php?paperId=1901005

Download/View Paper

 

Download/View Count

50

 

Share This Article